इस्‍पात मंत्रालय देश में मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए सहयोगी के रूप में इस्पात क्षेत्र की कंपनियां अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर रही हैं बीते कल इस्पात क्षेत्र ने 3474 मीट्रिक टन तरल मेडिकल ऑक्सीजन का उत्पादन किया था तरल मेडिकल ऑक्सीजन (एलएमओ) के उत्पादन को बढ़ाने और इसके वितरण के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं प्रविष्टि तिथि: 25 APR 2021 3:35PM by PIB Delhi केंद्रीय इस्पात मंत्री श्री धर्मेन्द्र प्रधान के मार्गदर्शन और निर्देशन में इस्पात क्षेत्र में इस्पात मंत्रालय के तहत सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम एवं अन्य निजी कंपनियां जरूरत के इस समय में राष्ट्र के साथ हैं और तरल मेडिकल ऑक्सीजन उपलब्ध कराने को लेकर सरकार के प्रयासों के पूरक के रूप में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर रही हैं। इस्पात संयंत्रों की कुल दैनिक ऑक्सीजन उत्पादन क्षमता 2834 मीट्रिक टन है। इस्पात क्षेत्र में 33 ऑक्सीजन संयंत्र (सीपीएसई एवं निजी, दोनों मिलाकर) हैं। इनमें से 29 संयंत्रों का संचालन नियमित तौर पर किया जा रहा है। 24 अप्रैल, 2021 को की गई रिपोर्ट के मुताबिक इस्पात क्षेत्र में एलएमओ उत्पादन की 2834 मीट्रिक टन दैनिक क्षमता की तुलना में एलएमओ का उत्पादन 3474 मीट्रिक टन है। यह एलएमओ उत्पादन क्षमता से अधिक है, क्योंकि अधिकांश इकाइयों ने नाइट्रोजन और आर्गन गैस के उत्पादन को कम कर दिया है और केवल एलएमओ का उत्पादन कर रही हैं। इन सभी प्रयासों के चलते सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र के इस्पात संयंत्रों द्वारा 2894 टन तरल मेडिकल ऑक्सीजन विभिन्न राज्यों में भेजे गए। इससे एक हफ्ते पहले यह आंकड़ा 1500/1700 टन प्रतिदिन था। इस्पात संयंत्र को कुछ सामान्य उद्देश्यों जैसे; लान्सिंग एवं गैस कटिंग के अलावा मुख्य रूप से इस्पात बनाने और ब्लास्ट फर्नेस में ऑक्सीजन संवर्धन के लिए गैसीय ऑक्सीजन की जरूरत होती है। इसे देखते हुए एकीकृत इस्पात संयंत्र में कैप्टिव ऑक्सीजन संयंत्रों को मुख्य तौर पर ऑक्सीजन, नाइट्रोजन एवं आर्गन के गैसीय उत्पादों के उत्पादन के लिए डिजाइन किए जाते हैं। इसके बाद वांछित दबाव पर प्रक्रिया की जरूरत को पूरा करने के लिए प्रेशर रिडक्शन एंड मैनेजमेंट सिस्टम (पीआरएमएस) के माध्यम से भेज दिया जाता है। इस तरह के संयंत्र अपनी चरम क्षमता पर 5-6 फीसदी अधिकतम तरल ऑक्सीजन (एलओएक्स) का उत्पादन कर सकते हैं, जो औद्योगिक ऑक्सीजन की तुलना में एक अत्यधिक शुद्ध उत्पाद है। ये संयंत्र केवल कुछ गैसीय ऑक्सीजन का त्याग करके और प्रक्रिया मापदण्डों को अनुकूल बनाकर एलओएक्स उत्पादन को सुधार सकते हैं। इस बीच तरल ऑक्सीजन के उत्पादन को बढ़ाने और इसके वितरण के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं। इसके लिए सभी ऑक्सीजन संयंत्र, चाहे वह निजी हो या सार्वजनिक, दिन-रात लगातार काम कर रहे हैं और ऑक्सीजन का वितरण कर रहे हैं। इसके अलावा इस्पात संयंत्र ऑक्सीजन सिलेंडरों को भी भर रहे हैं और राज्यों/अस्पतालों को इनकी आपूर्ति कर रहे हैं। सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के इस्पात संयंत्र विभिन्न राज्यों में तरल ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं। सेल द्वारा तरल मेडिकल ऑक्सीजन की औसत आपूर्ति 800 टन प्रतिदिन से अधिक हो गई है। 23 अप्रैल को 1150 टन एलएमओ वितरित किए गए थे और बीते कल यानी 24 अप्रैल को वितरित की गई मात्रा 960 टन थी। सेल लगातार एलएमओ की आपूर्ति बढ़ा रहा है। वहीं अगस्त, 2020 से 24 अप्रैल, 2021 तक भिलाई, बोकारो, राउरकेला, दुर्गापुर और बर्नपुर स्थित सेल के एकीकृत इस्पात संयंत्रों से कुल 39,647 टन तरल मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति की गई। इसके अलावा जहां तक राष्ट्रीय इस्पात निगम लिमिटेड (आरआईएनएल) का संबंध है, पिछले वित्तीय वर्ष 2020-21 में उसने 8842 टन एलएमओ की आपूर्ति की थी। वहीं चालू वित्तीय वर्ष में 13 अप्रैल से आज सुबह तक 1300 टन से अधिक मेडिकल ऑक्सीजन भेजा जा चुका है। इसमें पिछले तीन दिनों में 100 टन से 140 टन तक की वृद्धि हुई है। 22 अप्रैल को पहले ऑक्सीजन एक्सप्रेस को आरआईएनएल विशाखापत्तनम इस्पात संयंत्र से 100 टन तरल ऑक्सीजन के साथ महाराष्ट्र रवाना किया गया था, जिससे वहां के कोविड मरीजों के लिए ऑक्सीजन की तत्काल जरूरतों को पूरा किया जा सके। First Oxygen Express -RINL stands with the NATION *****

इस्‍पात मंत्रालय देश में मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए सहयोगी के रूप में इस्पात क्षेत्र की कंपनियां अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर रही हैं बीते कल इस्पात क्षेत्र ने 3474 मीट्रिक टन तरल मेडिकल ऑक्सीजन का उत्पादन किया था तरल मेडिकल ऑक्सीजन (एलएमओ) के उत्पादन को बढ़ाने और इसके वितरण के लिए सभी प्रयास किए […]

Continue Reading

प्रमुख बंदरगाहों ने ऑक्सीजन और ऑक्सीजन संबंधित उपकरण माल ले जाने वाले जहाजों के लिए सभी शुल्क हटाए

पत्तन, पोत परिवहन और जलमार्ग मंत्रालय’ प्रमुख बंदरगाहों ने ऑक्सीजन और ऑक्सीजन संबंधित उपकरण माल ले जाने वाले जहाजों के लिए सभी शुल्क हटाए ऑक्सीजन से संबंधित कंसाइनमेंट को बर्थ में सर्वोच्च प्राथमिकता दी जा रही है देश में ऑक्सीजन और संबंधित उपकरणों की अत्यधिक आवश्यकता को देखते हुए भारत सरकार ने कामराजार पोर्ट लिमिटेड […]

Continue Reading

भारतीय रेलवे ने राज्यों की सहायता के लिए, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और दिल्ली में कोविड देखभाल वाले डिब्बों को तैनात किया है

रेल मंत्रालय भारतीय रेलवे ने राज्यों की सहायता के लिए, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और दिल्ली में कोविड देखभाल वाले डिब्बों को तैनात किया है विभिन्न रेलवे स्टेशनों पर मौजूद 64000 बिस्तरों वाले लगभग 4000 कोविड देखभाल वाले डिब्बे त्वरित तैनाती के लिए उपलब्ध कराए जा सकते हैं पंजाब में भी तैनाती के लिए […]

Continue Reading

पीएम केयर्स के माध्यम से देशभर में सार्वजनिक स्वास्थ्य केंद्रों पर 551 पीएसए ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र स्थापित किए जाएंगे

प्रधानमंत्री कार्यालय पीएम केयर्स के माध्यम से देशभर में सार्वजनिक स्वास्थ्य केंद्रों पर 551 पीएसए ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र स्थापित किए जाएंगे देशभर के जिला मुख्यालयों पर सरकारी अस्पतालों में ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र लगाए जाएंगे इन संयंत्रों को जल्द से जल्द शुरू किया जाए : पीएम इन ऑक्सीजन संयंत्रों से जिला मुख्यालयों पर अस्पतालों में ऑक्सीजन […]

Continue Reading

किसान और खेतिहर मजदूर विपरीत परिस्थितियों में कड़ी मेहनत कर सभी को भोजन की उपलब्धता सुनिश्चित कर रहे हैं

कृषि एवं किसान कल्‍याण मंत्रालय किसान और खेतिहर मजदूर विपरीत परिस्थितियों में कड़ी मेहनत कर सभी को भोजन की उपलब्धता सुनिश्चित कर रहे हैं देश में रबी फसलों की कटाई समय पर गेहूं की 81.55 प्रतिशत फसल पहले ही काटी जा चुकी है छत्तीसगढ़, कर्नाटक और तेलंगाना में गन्ने की कटाई का काम पूरा चना, […]

Continue Reading

explainer: Government is bringing legislation to ban cryptocurrency, RBI is bringing its digital currency, know what will happen to current investors

RBI digital currency: On several occasions from the Reserve Bank, it has been said that it is in favor of digital currency and work is going on in this direction. What will happen to current investors is a serious matter. On the one hand the government is talking about a ban on private digital currency […]

Continue Reading