Spread the love

शर्मीले सीरो का किया जाएगा संरक्षण

कार्बेट टाइगर रिजर्व से लगी वन पंचायत कर्तिया के साथ ही लैंसडौन वन प्रभाग के जंगलों में हाल में ही हिमालयन सीरो (गोट एंटीलोप) मौजूद है।बकरे की तरह दिखने वाले हिरन प्रजाति के इस जानवर की मौजूदगी यह दर्शाती है कि संबंधित क्षेत्र की जैव विविधता बेहद मजबूत है और ये क्षेत्र उन्हें पसंद आ रहे हैं। इसी कारण से सरकार ने सीरो के संरक्षण की दिशा में कदम बढ़ाने की ठानी है। लैंसडौन वन प्रभाग की ओर से हिमालयन सीरो के संरक्षण के मद्देनजर कार्ययोजना तैयार करने का प्रस्ताव वन मुख्यालय को दिया गया है।
समुद्रतल से तीन हजार मीटर की ऊंचाई पर हिमालयन सीरो की मौजूदगी है, लेकिन यह आमतौर पर अन्य हिरनों की तरह नजर नहीं आता। असल में सीरो को बेहद घने जंगलों में ही रहना पसंद हैं। ऐसे में लोग हिरन की इस प्रजाति से रूबरू नहीं हो पाते। हाल में भारतीय वन्यजीव संस्थान की ओर से कार्बेट टाइगर रिजर्व से लगे क्षेत्रों में लगाए गए कैमरा ट्रैप में इसकी तस्वीरें कैद हुई। न सिर्फ आरक्षित वन क्षेत्र बल्कि कर्तिया वन पंचायत के जंगल में भी इसकी मौजूदगी है।
सीरो की मौजूदगी से ये पता चलता है कि संबंधित क्षेत्र में मानवीय दखल नहीं है। हाल में बाघ गणना के दौरान कार्बेट व राजाजी टाइगर रिजर्व के मध्य स्थित लैंसडौन वन प्रभाग के जंगलों में लगे कैमरा ट्रैप में सीरों की मौजूदगी दर्ज हुई।
डॉ.धनंजय के अनुसार प्रोजेक्ट टाइगर की यह धारणा भी है कि बाघों के संरक्षण के साथ अन्य जीवों और उनके वासस्थलों का भी संरक्षण हो। उन्होंने बताया कि लैंसडौन वन प्रभाग के डीएफओ की ओर से सीरो के संरक्षण के मद्देनजर कार्ययोजना बनाने का प्रस्ताव दिया गया है। लगता है कि सीरो के संरक्षण दिशा में बेहतर कार्य होगा ।


Spread the love

By udaen

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *