गुजरात में पेप्सिको द्वारा आलू किसानों पर 1 करोड़ रुपये से ज्यादा के मुआवजे का मुकदमा ठोक देने की घटना साबित करती है कि उदारीकरण के दौर में देश के खेती-किसानी को किस तरह की चुनौती मिलने वाली है. एक्सपर्ट्स का कहना है कि भारत में बीज का पेटेंट हो ही नहीं सकता और पेप्सिको की यह कोश‍िश महज किसानों को धमकाने और दबाव में लेने की कोशिश है.