Spread the love

भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान(एम्स) ऋषिकेश में क्लाइमेट चेंज एवं वेक्टर बोर्न डिजीज विषय पर संगोष्ठी का आयोजन

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में क्लाइमेट चेंज एवं वेक्टर बोर्न डिजिज विषय पर संगोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसमें हिमालयी राज्यों और मैदानी राज्यों में होने वाले पर्यावरणीय बदलावों से वैक्टर जनित बीमारियों के प्रभाव पर विस्तृत चर्चा की गयी।
एम्स के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत,डीन एकेडमिक प्रो.सुरेखा किशोर व आईसीएमआर एनआईएमआर के साइंटिस्ट डा.आरसी धीमान के सानिध्य में संगोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें विशेषज्ञों ने उत्तराखंड, हिमाचल व उड़ीसा में पर्यावरणीय बदलाव का वेक्टर जनित बीमारियों पर पड़ने वाले प्रभावों पर विचार विमर्श किया और संगोष्ठी में कहा गया कि निकट भविष्य में पर्यावरण परिवर्तन से हिमालयी क्षेत्रों में वैक्टर जनित बीमारियों के बढ़ने की आसंका जताई गई और उड़ीसा जैसे प्रांत के कुछ हिस्सों में इस तरह की बीमारियों के कम होने की संभावना है।

कम्यूनिटी एवं फेमिली मेडिसिन विभाग की ओर से आयोजित संगोष्ठी में उड़ीसा से डा.के.प्रधान,उत्तराखंड से डा.आशीष गुप्ता व डा.मिथलेश और हिमाचल से डा.नारायणी ने प्रतिभाग किया। इस अवसर पर दिल्ली के डा.वीपी ओझा, डा.तरुण, डा.पूनम, डा.गौरव ने भी विचार रखे। इस मौके पर सीएफएम विभाग की डा.वर्तिका सक्सेना, डा.महेंद्र सिंह, डा.प्रदीप अग्रवाल, डा.योगेश अरविंद आदि मौजूद थे


Spread the love

By udaen

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *