Spread the love

करीब 1.55 लाख पोस्ट ऑफिस के साथ विश्व के सबसे बड़े पोस्टल नेटवर्क में अब आप भी फ्रेंचाइजी ले सकते हैं। कोई भी 18 साल की आयु से अधिक और 8 वीं कक्षा पास व्यक्ति एक बेहद आसान प्रक्रिया को पूरा करके पोस्ट ऑफिस की फ्रेंचाइजी ले सकता है। फ्रेंचाइजी लेने में आपका खर्चा भी सिर्फ 5 हजार रुपये आएगा और आप इससे लगभग 50 हजार रुपये प्रति महीने तक आसानी से कमा सकते हैं।
दो तरह की होगी फ्रेंचाइजी

डाक विभाग द्वारा दो प्रकार की फ्रेंचाइजी की पेशकश की गई है। (1) उन क्षेत्रों में फ्रेंचाइजी आउटलेट्स के जरिए काउंटर सर्विस मुहैया करना जहां डाक सेवाओं की मांग है लेकिन वहां पोस्ट ऑफिस नहीं खोला जा सकता। (2) शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में पोस्टल एजेंट्स के माध्यम से पोस्टल स्टांप्स और स्टेशनरी की बिक्री।

क्या है प्रक्रिया-

आपको सबसे पहले अपने पोस्टल डिविजनल ऑफिस से फ्रेंचाइजी आउटलेट एग्रीमेंट फॉर्म लेना होगा और आवश्यक डॉक्यूमेंट्स के साथ उसको भरके जमा करना होगा। आवेदन से संबंधित आपको कोई समस्या हो तो आप पोस्ट ऑफिस अधीक्षक से भी बात कर सकते हैं। आपकी एप्लीकेशन मिलने के 14 दिनों के अंदर ASP/SDI की रिपोर्ट के आधार पर संबंधित डिविजनल हेड आपके आवेदन पर विचार करेंगे और योग्य पाए जाने पर आपका फ्रेंचाइजी के लिए सलेक्शन करेंगे। चयनित हो जाने के बाद डिपार्टमेंट के साथ आपको एक MOU साइन करना होगा। विभाग के अनुसार पोस्टल पेंशनरों और कंप्यूटर सुविधाएं उपल्बध कराने वाले लोगों को फ्रेंचाइजी के लिए प्राथमिकता दी जाएगी। फ्रेंचाइजी मिलने पर विभाग द्वारा आवश्यक ट्रेनिंग भी दी जाएगी।

सिक्योरिटी डिपॉजिट-

सिक्योरिटी डिपॉजिट फ्रेंचाइजी द्वारा एक दिन में किये जाने वाले फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन पर आधारित होता है। कम से कम सिक्योरिटी डिपॉजिट 5000 रुपये रखा गया है। फ्रेंचाइजी खुलने के बाद प्रतिदिन की औसत रेवेन्यू के आधार पर यह बढ़ भी सकता है। सिक्योरिटी डिपॉजिट NSC की फॉर्म में होगा।

किसे नहीं मिलेगी फ्रेंचाइजी-

ऐसी ग्राम पंचायतें जहां संचार सेवा योजना के तहत पंचायत संचार सेवा केंद्र हैं, वहां फ्रेंचाइजी नहीं खोली जा सकेगी। वहीं पोस्ट ऑफिस कर्मचारी के परिवार के सदस्य उसी डिवीजन में फ्रेंचाइजी नहीं ले सकेंगे, जहां कर्मचारी काम कर रहा है।

फ्रेंचाइजी में मिलेगी ये सुविधाएं-

पोस्ट ऑफिस की फ्रेंचाइजी स्टांप्स और स्टेशनरी की बिक्री कर सकेगी। इसके साथ ही डाक, रेवेन्यू टिकट, स्पीड पोस्ट की बुकिंग, रजिस्ट्री, मनी ऑर्डर (100 रुपये से अधिक), पोस्टल लाइफ इंश्योरेंस, डिपार्टमेंट की तरफ से बिल, टैक्स आदि सेवाएं भी फ्रेंचाइजी में मिल सकेगी।

इस तरह होगी कमाई-

फ्रेंचाइजी को हर सर्विस पर विभाग की ओर से कमीशन मिलेगा। यह कमीशन MOU में तय होगा। रजिस्टर्ड आर्टिक्ल्स की बुकिंग पर 3 रुपए, स्पीड पोस्ट आर्टिक्ल्स की बुकिंग पर 5 रुपए, 100 से 200 रुपए के मनी ऑर्डर की बुकिंग पर 3.50 रुपए, 200 रुपए से अधिक के मनी ऑर्डर पर 5 रुपए और हर महीने रजिस्ट्री और स्पीड पोस्ट के 1000 से ज्यादा आर्टिकल्स की बुकिंग पर 20 फीसदी अतिरिक्त कमीशन भी मिलेगा। कई आर्टिकल्स पर ज्यादा बिक्री या बुकिंग करने पर अतिरिक्त कमीशन का भी प्रावधान किया गया है। विभाग का कहना है कि, इस तरह एक फ्रेंचाइजी से कम से कम हर महीने 50 हजार रुपये तक कमाए जा सकते हैं।


Spread the love

By udaen

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *