Spread the love

नगर निगम प्रशासन सड़कों पर फड़ और रेहड़ी लगाकर फल, सब्जियां आदि बेचने वाले लघु व्यापारियों से तह बाजारी वसूल करेगी। नगर निगम को तह बाजारी से अगले 16 माह में 8.05 लाख की कमाई होगी। तहबाजारी का ठेका मार्च 2021 तक जारी रहेगा।

नगर निगम में जहां वर्ष 2018 में 146 फड़ और रेहड़ियां पंजीकृत थी, वहीं वर्ष 2019 में इनकी संख्या 192 हो गई है। पालिका के समय से ही नगर के मुख्य मार्गों में लगने वाली फड़ और रेहड़ियों से तहबाजारी वसूल की जाती रही है, लेकिन अप्रैल 2018 से इनसे तह बाजारी वसूल नहीं हो पा रही थी। दिसंबर 2017 में कोटद्वार भाबर के सनेह से लेकर हल्दूखाता पट्टी के 35 ग्राम सभाओं के 73 गांवों को पालिका में शामिल करते हुए नगर निगम का गठन किया गया। नगर निगम बनने के बाद तह बाजारी वसूलने के लिए तीन बार टेंडर निकाले गए, लेकिन आवेदकों के अभाव में हर बार टेंडर की प्रक्रिया नहीं हो पाई थी। सहायक नगर आयुक्त राजेश नैथानी ने कहा कि नगर में तहबाजारी वसूलने के लिए टेंडर हो चुके हैं। इससे नगर निगम को 8.05 लाख की आय प्राप्त होगी। तहबाजारी का ठेका 31 मार्च 2021 तक जारी रहेगा।
तहबाजारी के नौ लाख डंप, मामला कोर्ट में विचाराधीन
कोटद्वार। वर्ष 2017-18 में नौ लाख की तहबाजारी नगर निगम को अभी तक नहीं मिल पाई है। दरअसल पालिका प्रशासन ने नगर में तहबाजारी के लिए टेंडर जारी किए थे। इसके तहत नौ लाख की आय होनी थी, लेकिन अधिकारियों की लापरवाही के चलते ठेकेदार उक्त आय को डकार गए। इसके बाद पालिका प्रशासन की ओर से ठेकेदार को कई नोटिस भेजे गए, लेकिन रकम वसूल नहीं हो पाई। अंत में पालिका प्रशासन की ओर से ठेकेदार की कुर्की की गई, लेकिन इससे पहले कि ठेकेदार के घर की नीलामी कर रकम वसूली जाती, ठेकेदार मामले को लेकर हाईकोर्ट पहुंच गया। वर्तमान में मामला हाईकोर्ट में विचाराधीन है।


Spread the love

By udaen

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *