जिलाधिकारी रंजना राजगुरू की अध्यक्षता में कलैक्ट्रेट सभागार में मासिक स्टाफ बैठक राजस्व एवं पुलिस क्षेत्रों के अन्तर्गत अपराधों, सत्र न्यायालयों एवं विभिन्न न्यायालयों में लम्बित वादों, राजस्व वादों के निस्तारण, विभाग स्तर पर आडिट आपत्तियों का निराकरण, राजस्व वसूली, पेंषन प्रकरण समेत राजस्व विभाग के अन्तर्गत विभिन्न अधिश्ठानों के तहत संपन्न होने वाले कार्यों के साथ साथ परिवहन विभाग, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति, आबकारी विभाग से संबंधित कार्यों की प्रगति की समीक्षा की।

जिलाधिकारी रंजना राजगुरू की अध्यक्षता में कलैक्ट्रेट सभागार में मासिक स्टाफ बैठक राजस्व एवं पुलिस क्षेत्रों के अन्तर्गत अपराधों, सत्र न्यायालयों एवं विभिन्न न्यायालयों में लम्बित वादों, राजस्व वादों के निस्तारण, विभाग स्तर पर आडिट आपत्तियों का निराकरण, राजस्व वसूली, पेंषन प्रकरण समेत राजस्व विभाग के अन्तर्गत विभिन्न अधिश्ठानों के तहत संपन्न होने वाले कार्यों के साथ साथ परिवहन विभाग, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति, आबकारी विभाग से संबंधित कार्यों की प्रगति की समीक्षा की। जिलाधिकारी ने सत्र न्यायालय व उप जिलाधिकारी न्यायालयों में लम्बित प्रकरणों को प्राथमिकता के साथ निपटाने के लिए अधिवक्ताओं को निर्देष देते हुए कहा कि वादों के निराकरण के लिए प्रभावी पैरवी करते हुए गवाही षत प्रतिषत हो। तथा उप जिलाधिकारियों को निर्देष दिये है कि उनके न्यायालयों में जो भी वाद लंम्बित है उनका तत्काल निस्तारण करना सुनिष्चित करें। जिलाधिकारी ने सभी उपजिलाधिकारियांे को राजस्व वादों के निस्तारण में भी तेजी लाने के निर्देष दिये। बैठक में आबकारी विभाग की समीक्षा करते हुए जनपद में अवैध षराब की बिक्री पर अंकुष लगाने के लिए जिलाधिकारी ने आबकारी अधिकारी एवं उप जिलाधिकारियों व पुलिस विभाग के अधिकारियों को नियमित छापेमारी करने के निर्देष दिये। उन्होंने राजस्व क्षेत्र में भी तहसीलदारों एवं नायब तहसीलदारों को भी अपनेअपने क्षेत्रों में अवैध षराब के खिलाफ छापेमारी करने के भी निर्देष दिये। परिवहन विभाग की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी ने सहायक सम्भागीय परिवहन अधिकारी को निर्देष दिये है कि वे संयुक्त रूप से निरीक्षण करें तथा सड़क सुरक्षा के संबंध में जागरूकता अभियान चलाते हुए लोगों को यातायात नियमों के बारे में जानकारी उपलब्ध कराये। जिस पर सहायक परिवहन अधिकारी ने जिलाधिकारी को अवगत कराया है कि परिवहन विभाग द्वारा अब तक 1852 चालान किये गये है, जिसके माध्यम से 43 लाख 94 हजार की वसूली की गयी है। वाणिज्यकर विभाग की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी ने अपलेखन के लंबित 06 मामलों पर कार्यवाही न होने पर गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए वाणिज्यकर के अधिकारी को निर्देष दिये है कि इन मामलों के निस्तारण के लिए संयुक्त निरीक्षण करते हुए यथाषीघ्र अनिवार्य रूप से निराकरण करने के निर्देष दिये। कहा कि बकाया वसूली पर भी षीघ्रता षीघ्र कार्यवाही करने के निर्देष दिये। जिला पूर्ति विभाग की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी ने निर्देष दिये है कि समयसमय पर खाद्यान के गोदामों एवं सस्ता गल्ला विक्रेताओं की दुकानों का निरीक्षण करना सुनिष्चित करें तथा रैस्टोरेन्ट एवं ढाबो होटलों में अवैध रूप से संचालित हो रहे घरेलू गैस सिलेण्डरों के विरूद्ध छापामारी करें पकड़े जाने वालों के विरूद्ध भी कड़ी कार्यवाही करना सुनिष्चित करें। उन्होंने खाद्य सुरक्षा विभाग की समीक्षा के दौरान कहा कि विभाग समयसमय पर दुकानों का निरीक्षण करते हुए नकली मिलावटी सामान एवं एक्सपायरी डैट हुये सामान को बेचने वाले विक्रेताओं के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करना सुनष्चित करें। इस पर पैनी नजर बनाये रखें तथा समयसमय पर मिल्क, बटर, टमाटों साॅस, पनीर, घी, तेल आदि खाद्य पदार्थों का सैंपल लेने के निर्देष दिये। खनन विभाग की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी ने प्रवर्तन की कार्यवाही के लिए प्रतिदिन सूचना उपलब्ध कराने के निर्देष दिये तथा राजस्व, वन विभाग, पुलिस विभाग एवं परिवहन विभाग को संयुक्त निरीक्षण करते हुए ओवर लोडिंग के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करने के निर्देष दिये। जिलाधिकारी ने तहसीलवार मुख्य देयकों एवं विविध देयकों की समीक्षा के दौरान सभी उप जिलाधिकारियों एवं तहसीलदारों को निर्देष दिये है कि जिन तहसीलों में राजस्व वसूली कम की गयी है वह राजस्व वसूली में तेजी लायें। उन्होंने तहसीलवार बनाये जाने वाले प्रमाण पत्रों की भी समीक्षा की कहा कि सभी तहसीलों से जो भी प्रमाण पत्र निर्गत किये जा रहे है उन प्रमाण पत्रों को समय से बनाकर आवेदनकर्ता को उपलब्ध कराना सुनिष्चित करें प्रमाण पत्रों के जारी करने में किसी प्रकार की कोई लापरवाही न बरती जाय। बैठक में जिलाधिकारी ने सूचना का अधिकार अधिनियम के तहत प्राप्त आवेदन पत्रों का निर्धारित समय सीमा के अन्तर्गत निराकरण करने को कहा। उन्होंने सभी पटल सहायकों को निर्देष देते हुए कहा कि प्राप्त षिकायतों व अन्य सन्दर्भो का नियमित तरीके से निस्तारण करें इसमें किसी प्रकार की हिलाहवाली कतई बर्दाष्त नहीं होगी। बैठक में अपर जिलाधिकारी राहुल कुमार गोयल, संयुक्त मजिस्ट्रेट कपकोट नरेन्द्र सिंह भण्डारी, उपजिलाधिकारी सदर राकेष चन्द्र तिवारी, गरूड जयवर्द्धन षर्मा, ज्येश्ठ अभियोजन अधिकारी भूपेन्द्र सिंह जंगपांगी, तहसीलदार मैनपाल सिंह, प्रषासनिक अधिकारी बालम सिंह बिश्ट, दिनेष सिंह खेतवाल, बलवन्त सिंह देवडी, षासकीय अधिवक्ता बसन्त बल्लभ पाठक, खडक सिंह कार्की सहित समस्त पटल सहायक मौजूद थे।

Leave a Comment