Spread the love

जिलाधिकारी गढ़वाल डॉ. विजय कुमार जोगदण्डे की अध्यक्षता में आज विकास भवन सभागार, पौड़ी में जिला योजना, राज्य सेक्टर, केन्द्र पोषित एवं बीस सूत्री कार्यक्रमों की कार्य प्रगति की समीक्षा बैठक आयोजित की गयी। जिलाधिकारी ने जिला सेक्टर, राज्य सेक्टर एवं बीस सूत्रीय कार्यक्रमों के अन्तर्गत कम प्रगति करने वाले विभागों को गुणवत्ता का ध्यान रखते हुए प्राथमिकता के आधार पर कार्यों में प्रगति लाते हुए शीघ्र धनराशि व्यय करने के निर्देश दिये। साथ ही उन्होंने समस्त अधिकारियों को निर्देशित किया कि जिला योजना के अंतर्गत जितने भी कार्य हैं, उन्हें इसी माह 30 दिसम्बर तक पूर्ण करना सुनिश्चित करें। जिलाधिकारी ने जिला योजना में कम प्रगति पर राजकीय सिंचाई अधिशासी अभियंता एवं समाज कल्याण अधिकारी का वेतन रोकने के आदेश दिये तथा बीस सूत्रीय कार्यक्रम में डी श्रेणी आने पर पीएमजीएसवाई, राजकीय सिंचाई, जिला समाज कल्याण अधिकारी का स्पष्टीकरण, पौड़ी अधिशासी अधिकारी नगर पालिका को छोड़कर समस्त अधिशासी अधिकारी एवं संबंधित का स्पष्टीकरण तलब किया। इस दौरान उन्होंने सम्बंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि कार्य प्रगति की प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना सुनिश्चित करें। साथ ही उन्होंने कम प्रगति वाले विभागों के साथ मुख्य विकास अधिकारी प्रशांत आर्य को बैठक करने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने कहा कि अगला सप्ताह कम प्रगति वालों विभाग के अलग से समीक्षा बैठक ली जायेगी, जिसमें संबंधित अधिकारी को पूर्ण सूचना के साथ उपस्थित होने के निर्देश दिये। उन्होंने होम्योपैथिक, माध्यमिक शिक्षा, कृषि एवं सहकारिता विभाग के अच्छे प्रगति पर बधाई दी।
जिलाधिकारी डॉ. जोगदण्डे ने आयोजित बैठक में सम्बंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि निर्वाचन के कार्य के अलावा समयानुसार अपने-अपने विभागों का कार्य करना सुनिश्चित करें, जिससे विकास कार्यों में प्रगति आ सकेगी। उन्होने उद्यान अधिकारी को खिर्सू एवं पौड़ी में एक सप्ताह के भीतर कीवि का प्लानटेशन कराने की कार्यवाही करने के निर्देश दिये, साथ ही उन्होंने खेल अधिकारी को निर्देशित किया कि जो हॉस्टल की स्थिति खराब है उनकी मरम्मत करना सुनिश्चित करें। इस दौरान उन्होंने लोक निर्माण विभाग को निर्देशित किया कि टेंडर प्रक्रिया पूर्ण कर कार्यों को जल्द शुरू करना सुनिश्चित करें। जिससे आम जनमानस को उसका लाभ समय पर मिल सकेगा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि आबंटित धनराशि शेष नहीं रहनी चाहिए। कहा कि साथ ही व्यय की गई धनराशि का विवरण भी उपलब्ध करायें। साथ ही उन्होंने सहायक निदेशक सूचना को निर्देशित किया कि जिला योजना के अंतर्गत जनपद में जितने भी विकास कार्य पूर्ण हो चुके हैं सूचना संकलित कर, जनपद की एक विकास पुस्तिका प्रकाशित करना सुनिश्चित करें।
जिलाधिकारी ने निर्माण खंड अधिशासी अभियंता को निर्देशित किया कि पूल्ड हाउस में अधूरे कार्यों को जल्द पूर्ण करना सुनिश्चित करें। साथ ही उन्होंने मत्स्य, पशुपालन, उद्यान, कृषि, रेशम, पर्यटन, अर्थ एवं संख्या, युवा कल्याण, सहकारिता, खादी ग्रामोद्योग, रेशम, स्वास्थ्य, शिक्षा सहित अन्य विभागों की समीक्षा कर निर्देशित किया कि अधूरे कार्यों को जल्द पूर्ण करने सुनिश्चित करें। उन्होंने डीएफओ को नए पौधों को संरक्षित कर उपयोग में लाने को कहा। इस दौरान उन्होंने समस्त नगर पालिका व नगर पंचायतों में कम प्रगति होने पर नाराजगी जताई। उन्होंने नगर पालिका दुगड्डा को निर्देशित किया कि समस्त वार्ड में एक-एक महिला समूह बनाएं तथा हर माह बैठक करवाना सुनिश्चित करें। साथ ही उन्होंने कहा कि सम्बंधित अधिकारियों के साथ विधायक निधि की बैठक में तैयारी के साथ आये। कहा कि जिसकी प्रगति खराब होगी उसके खिलाफ कार्यवाही अमल में लायी जायेगी। अर्थ एवं संख्या अधिकारी को समस्त विभागीय अधिकारियों से योजनाओं की कार्य प्रगति की पूर्ण, प्रगति एवं अनारंभ की प्रमाण पत्र लेने के निर्देश दिये।
इस अवसर पर डीएफओ मुकेश कुमार, मुख्य कोषाधिकारी लखेंद्र गौन्थियाल, अधिशासी अभियंता प्रांतीय खंड अरुण कुमार पाण्डे, अधिशासी अभियंता श्रीनगर आरपी नैथानी, रेशम अधिकारी राजबीर सिंह, जिला पर्यटन विकास अधिकारी खुशाल सिंह नेगी, मुख्य उद्यान अधिकारी नरेन्द्र कुमार, उरेड़ा अधिकारी शिव सिंह मेहरा, लधु सिंचाई अधिकारी राजीव रंजन, जिला शिक्षा अधिकारी के. एस. रावत, अर्थ एवं संख्याधिकारी वीरेन्द्र नेगी, ईओ जोंक, मंजू चौहान, पौड़ी ईओ प्रदीप बिष्ट अष्ट अन्य उपस्थित थे।
…….


Spread the love

By udaen

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *