Spread the love

majithia sketch

मजीठिया वेतनमान को लेकर पत्रकारों के सामने सबसे बड़ी समस्या वेतन गणना की आ रही है। गुजरात के पत्रकार साथियों ने हाईकोर्ट में मजीठिया वेतनमान का केस लगाया था वह भी वेतन गणना के कारण लटका हुआ है। संभवतः उक्त मामले की  सुनवाई पूरी हो गई है और वेतन की गणना सीए से कराई जा रही है। इस फैसले पर देशभर के पत्रकारों की नजर है। पहली बार पत्रकारों की एकता का दम दिख सकती है क्योंकि हाईकोर्ट ने एक माह में ही सुनवाई पूरी कर ली।

गणना की गणितः समाचार पत्रों को 8 श्रेणियों में व एजेंसी को 4 श्रेणी में रखा गया है।

जैसे- 50 से 100 करोड़ का व्यवसाय करने वाले समाचार पत्र को चतुर्थ श्रेणी में रखा गया है। इसमें समूह 2 वेतनमान Rs.16000-ARI(3%)-28900 अर्थात् मूल वेतन 28900 है। जबकि 16000 को आधार मानकर वार्षिक वेतनवृद्धि करनी है। मतलब यदि एक साल या 240 दिन कर्मचारी की सेवा हो गई तो 480 रूपए मूल वेतन और वृद्धि होगी। जबकि तीन माह के उच्च वेतन के बराबर साल में एरियर भुगतान दिया जाना है। अर्थात् तीन माह का वेतन। एक वेतन मान अतिरिक्त बोनस के तौर पर दिया जाता है।

basic 28900
variable pay 10115  10115 बेसिक का 35 प्रतिशत (चार्ट अनुसार)

dearness allowance 18785 बेसिक का 65 प्रतिशत  (1 जनवरी 2014 से जून 2014 की गणना)
जुलाई 2014 से दिसंबर 2014 तक 73 प्रतिशत
अर्थात् जुलाई के बाद डीए उक्त वेतनमान पर 21097 होगा।

All-India Annual Average CPI – IW

(Preceding 12 months in question)
Minus
All-India Annual Average CPI – IW
(July 2009 to June 2010)
Dearness Allowance = ——————————————–X Rate of Neutralization (1.0) X Basic Pay

All-India Annual Average CPI – IW
(July 2009 to June 2010) जो वर्तमान में 52.55 प्रतिशत के आसपास आता है।

house rent 30901.5  (बेसिक + वेरियवल पे का 10 प्रतिशत)

मकान किराया एक्स शहर के लिए बेसिक का 30 प्रतिशत, वाई शहर के लिए 20 प्रतिशत और जेड श्रेणी के शहर के लिए 10 प्रतिशत निर्धारित है।
कौन सा शहर किस श्रेणी का है इसका निर्धारण मजीठिया वेज बोर्ड की अनुशंसा में दिया हुआ है।

transport allowance 1950.75 अर्थात् 1951 (बेसिक + वेरियवल पे का 5 प्रतिशत)
ट्रास्टपोर्ट एलाउंस एक्स शहर के लिए बेसिक का 20 प्रतिषत, वाई शहर के लिए 10 प्रतिशत और जेड श्रेणी के शहर के लिए 5 प्रतिशत निर्धारित है।

medical allowance 1000
वर्ग1 व 2 के अखबारों के लिए लिए 1000 और 3 व 4 श्रेणी के अखबारों के लिए 500 रूपए निर्धारित है।

night allowance 2250  75 रूपए प्रतिदिन
वर्ग1 व 2 के अखबारों के लिए लिए 100 रूपए प्रतिदिन और 3 व 4 श्रेणी के लिए 75 रूपए व अन्य श्रेणी के अखबारों में कार्यरत कर्मचारियों को 50 रूपए प्रतिदिन निर्धारित है।

conveyance 5392.74 बेसिक का 16.66 प्रतिशत
समुद्र तल से 1500 मीटर ऊंची जगहों में रहने वालों पत्रकारों को हार्डशिप एलांउस 1000 रूपए प्रतिमाह दी जाती है।

कुल वेतन 67178.74
इसमें 12.36 प्रतिषत पीएफ कटता है और इन्कम टैक्स व अन्य कटौतियां कर्मचारियों की इच्छानुसार होती है।

चैकानें वाले आंकड़े
मजीठिया वेतनमान अंतिम श्रेणी के पत्रकारों के लिए कुछ खास नहीं लेकिन वर्ग 1 से 4 तक पत्रकारों के लिए विशेष लाभदायी है। वर्ग 1 व 2 के कर्मचारियों का वेतन कटौतियों के वाबजूद 50 हजार से ऊपर होगा। लेकिन सालान वृद्धि निराशाजनक लगती है।

उक्त गणना अप्रैल 2014 की है, ऐसे कर्मचारी जो नए है। पुराने कर्मचारियों का बेसिक उनकी वरिष्ठता के अनुसार अलग होगी। अन्य वर्षों लिए डियरनेस एलांउस में परिवर्तन होगा। उक्त वेतन पत्रकारों के लिए न्यूनतम है। इससे ऊपर वेतन मिलता है तो किसी को कोई आपत्ति नहीं।

समाचार पत्रों में तीन श्रेणी में कर्मचारियों को रखा गया है। पत्रकार, प्रशासनिक स्टाफ और फैक्ट्री स्टाफ। प्रशासनिक स्टाफ की सूची तकनीकी त्रुटि वश नहीं प्रस्तुत की जा रही है।


Spread the love

By udaen

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *