Spread the love

सूक्ष्‍म, लघु एवं मध्‍यम उद्यम मंत्रालय

azadi ka amrit mahotsav

खादी और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) के नवनियुक्त अध्यक्ष श्री मनोज कुमार ने शुक्रवार, 15 जुलाई 2022 को पदभार ग्रहण किया। केवीआईसी अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभालने के बाद श्री मनोज कुमार ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी के “आत्मनिर्भर भारत” के सपने को साकार करना उनकी प्राथमिकता होगी। उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के बड़े लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए केवीआईसी की विभिन्न योजनाओं के माध्यम से अधिकतम संख्या में छोटी और सूक्ष्म इकाइयों की स्थापना तथा स्वरोजगार का सृजन करना भी उनकी प्राथमिकता होगी। उन्होंने कहा कि केवीआईसी प्रधानमंत्री के उस विज़न पर काम करना जारी रखेगा जो युवाओं को ‘नौकरी मांगने वाले’ के बजाय ‘नौकरी देने वाला’ बनाएगा।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/WhatsAppImage2022-07-16at7.46.20PMRUCQ.jpeg
https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/WhatsAppImage2022-07-16at7.46.07PMOTLY.jpeg

केवीआईसी में विशेषज्ञ सदस्य (विपणन) के रूप में काम कर चुके श्री मनोज कुमार को विपणन और ग्रामीण विकास के क्षेत्रों में व्यापक अनुभव है। उनका मानना है कि खादी देश में एक “मौन क्रांति” की तरह फैल रही है जिसका नेतृत्व प्रधानमंत्री कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पिछले 8 वर्षों में “खादी इंडिया” की उपलब्धियां उत्‍कृष्‍ट रही हैं।

केवीआईसी के नए अध्यक्ष श्री कुमार ने कहा कि वह यह सुनिश्चित करेंगे कि सरकार से वितरित किया गया धन सीधे खादी कारीगरों के हाथों में पहुंचे, जो बदले में, समाज के कमजोर वर्गों, विशेष रूप से सबसे गरीब लोगों के आर्थिक सशक्तिकरण का मार्ग प्रशस्त करेगा। उन्होंने कहा कि केवीआईसी यह सुनिश्चित करने का प्रयास करेगा कि प्रत्येक हाथ को पर्याप्त काम मिले और उनके कार्यों के लिए उचित पारिश्रमिक मिले।

 श्री मनोज कुमार ने कहा कि वह खादी इंडिया ब्रांड को नई ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए “सबका साथ, सबका विकास” और “राष्ट्र के लिए खादी, फैशन के लिए खादी तथा बदलाव के लिए खादी” के मंत्र का अनुसरण करेंगे। उन्होंने कहा कि जिस तरह से खादी ने भारत में लोकप्रियता हासिल की है, उसी तरह “खादी को वैश्विक मंच पर लोकप्रिय बनाना उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता होगी। श्री मनोज कुमार ने कहा कि हमारा प्रयास होगा कि खादी को “स्थानीय” उत्पाद से “वैश्विक” बनाया जाए, ताकि दुनिया भर में खादी की मांग में उल्लेखनीय वृद्धि हो।”

***

इस विज्ञप्ति को इन भाषाओं में पढ़ें: English

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email
Share on linkedin

Spread the love

By udaen

Leave a Reply

Your email address will not be published.