इको-पार्क का शिलान्यास

कोटद्वार के स्नेह में वन मंत्री के कर कमलो से इको- पार्क  सहित 20 करोड़ के जायका रिसोर्ट  का काम हुआ प्रारम्भ
फोटो -आशुतोष तिवारी

जनपद पौड़ी गढ़वाल के स्थित जिम कार्बेट नेशनल पार्क जाने के लिये  लैंसडौन वन प्रभाग के अंतर्गत दुगड्डा-सेंधीखाल व कोटद्वार सनेह मार्ग पर जिम कार्बेट नेशनल पार्क प्रवेश द्वार एवं उत्तराखंड वन संसाधन प्रबंधन परियोजना (जायका) द्वारा वित्त पोषित 20 करोड़ के जायका रिसोर्ट के निर्माण का काम शुरू हो गया है। वन मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने रिजोर्ट का विधिवत पूजा के साथ नीव की ईट रखते हुए कहा कि कोटद्वार को देश-विदेश में पहचान दिलाना ही उनका उद्देश्य है। उन्होंने कहा कि गूलर झाला में भी करीब 25 करोड़ की लागत से एक ओर रिजोर्ट बनाया जायेगा। वन मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने कोटद्वार की जनता को आश्वस्त करते हुए कहा कि जिन परियोजनाओं का यहां पर शिलानाश किया किया गया है वे   शासनादेश के बाद बजट स्वीकृत और कार्यदायी संस्था द्वारा निविदा फाईनल करने के बाद काम शुरू किया गया है।
शनिवार को सनेह में आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शिरकत करते हुए काबीना मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने कहा कि जिन योजनाओं का शिलान्यास यहां पर हुआ है इनसे न सिर्फ क्षेत्र का विकास होगा बल्कि स्थानीय युवाओं को भी रोजगार मिल सकेगा। उन्होंने कहा कि भविष्य में यह योजनाएं मील का पत्थर साबित होने जा रही हैं। उन्होंने कहा कि कोटद्वार एक ऐसा शहर है जो दो कार्बेट एवं राजाजी नेशनल पार्क के मध्य स्थित है। ईको टूरिज्म डेस्टिनेशन/रिजोर्ट की स्थापना कर क्षेत्र में मौजूद विभिन्न प्रकार के जीव जन्तु पक्षी पे्रमियों को उन्हें देखने का मौका मिलेगा। वहीं स्थानीय स्तर पर ही लोग रोजगार से जुड़ेगें। इससे करीब 10 हजार लोग प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार में जुडेगें। उन्होंने कहा कि रिजोर्ट को दुनिया की आधुनिकतम तकनीक से बनाये जा रहा है। जो कि आठ माह में बनकर तैयार हो जायेगा। रिजोर्ट में आने वाले लोगों के लिए विभिन्न देशों के व्यजंन भी उपलब्ध होगें। ईको टूरिज्म डेस्टिनेशन/रिजोर्ट के निर्माण कार्य लागत करीब 20 करोड़, दुगड्डा सैन्धीखाल मार्ग पर जिम कार्बेट नेशनल पार्क प्रवेश द्वार तथा कोटद्वार सनेह मार्ग पर जिम कार्बेट नेशनल पार्क प्रवेश द्वार लागत 25-25 लाख के करीब बतायी गई है। जिला पंचायत अध्यक्ष दीप्ती रावत ने कहा कि सरकार का फोकस तेजी से विकास कार्यों को करना है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *